पत्रकार 👉🏿 प्रेस क्लब न होने की दशा मे जिले पर ईधर-उधर भटकने को मजबूर रहते है पत्रकार

 


प्रेस क्लब के लिए तरस रहे कुशीनगर के पत्रकार


👉🏿 प्रेस क्लब न होने की दशा मे जिले पर ईधर-उधर भटकने को मजबूर रहते है पत्रकार


👉🏿 विभिन्न पत्रकार संगठनो ने शासन व प्रशासन को कई बार भेज चूका है पत्र



कुशीनगर। जिले मे स्थायी प्रेस क्लब न होने की दशा मे जिला मुख्यालय पर प्रतिदिन ईधर-उधर भटकने को मजबुर रहते है जिले के पत्रकार। प्रेस क्लब बनवाने के लिए विभिन्न पत्रकार संगठनो ने शासन व प्रशासन को कई बार पत्र भेजकर प्रेस क्लब की स्थापना हेतू मांग किये थे लेकिन शासन प्रशासन द्वारा अब तक कोई ठोस कदम नही उठाया गया जिससे पत्रकारो मे गहरा रोष व्याप्त है।


बतादे कि कुशीनगर जिले मे प्रिंट व इलेक्ट्रानिक मीडिया के पत्रकार प्रतिदिन समाचार कवरेज करने के लिए जिला मुख्यालय पर पहुंचते लेकिन मुख्यालय पर पत्रकारो के लिए बैठने की कोई स्थायी जगह नही होती है। समाचार कवरेज तो करते है लेकिन दिन भर ईधर उधर भटकते नजर आते है। पत्रकारो के लिए स्थायी जगह न होने पर तमाम प्रकार की दिक्कतो का सामना करना पड़ता है। यहां तक की कई पत्रकार साथियो का बाईक व हेलमेट भी चोरी हो चूका है। इस मामले मे जिले के तमाम पत्रकार संगठनो ने कई सालो से शासन व प्रशासन को पत्र भेजकर प्रेस क्लब स्थापना की मांग करते रहे लेकिन पत्रकारो के हितो की परवाह न करते हुये पत्रक ठंडे बस्ते मे डाल दिया जाता है। इस सम्बंध मे वरिष्ठ पत्रकारो का कहना है कि अगर शासन व प्रशासन हम लोगो की मांगो को पुरा नही करती है तो समाचार कवरेज करने से वहिष्कार करेंगे। प्रेस क्लब की मांग करने वालो मे वरिष्ठ पत्रकार ज्योतिभान मिश्र, घनश्याम सागर, अजय मिश्र, संजय चांणक्य, विनोद गोंड़, खुर्शेद आलम, शकील अहमद, भानू तिवारी, शभ्भू मिश्र, सुनिल तिवारी, इमामुद्दिन, कलामुद्दिन, टिपू सुल्तान, दिनेश ओझा सहित तमाम पत्रकार शामिल है।


रिपोर्ट- शकील , कुशीनगर


Popular posts from this blog

उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के नियमित, संविदा, और सेवा प्रदाताओं के कर्मचारियों सहित सभी 60 हजार कर्मचारियों को अप्रैल माह का पूर्ण वेतन और मानदेय दिया जाएगा:::~~डॉ राजशेखर प्रबन्ध निदेशक

अपनी निडरता और क्षत्रिय वंश के कारण की यदुवंशीयों का नाम 'अहीर' यादव.