ब्रेकिंग न्यूज - 68500 शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया की लिखित परीक्षा को 2 वर्ष पूर्ण होने पर एक शिक्षक की छोटी सी आत्मकथा:::-== जरूर पढ़ें और शेयर करें

विषय- 68500 लिखित परीक्षा को 2 वर्ष पूर्ण होने पर एक छोटी सी कहानी


हमारा 4th सेमेस्टर था तभी पता चला कि इस बार शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया में बदलाव आया है सरकार इस बार टीईटी पास अभ्यर्थियों के लिए एक ओर परीक्षा कराएगी जो कि लिखित परीक्षा होगी सबको खुशी हुई लेकिन ज्यादा उनको हुई जिनका गुणांक कम था लेकिन टेंशन ये कि लिखित कैसी होगी 


4 th सेमेस्टर के साथ टीईटी पास हुआ ।


68500 भर्ती का आवेदन किया और टोटल आवेदन 119000 हुए और इसी के साथ रोज अख़बार में खबर आने लगी कि 1 नंबर का एक शब्द का लिखना है 2 नंबर का 1 लाइन का लिखना है और 4 नंबर का कम से कम 4 लाइन का 


इसी के साथ विरोध हुआ लिखित परीक्षा नहीं कराओ ऑप्शन की कराओ लेकिन सरकार नहीं मानी होगी लिखित लेकिन कुछ बदलाव के साथ अब 150 क्वेश्चन आएंगे 150 नंबर के साथ एक शब्द का लिखना है ।


इसी के साथ 12 मार्च को लिखित परीक्षा टल गई और नई तारीख 27-5-18 हुई यानि आज की और 20 मई 2018 को ऐलान हुआ 30 33 % का शिक्षामित्रों के साथ कुछ और लोगो को खुशी हुई ।


फिर दिन आया आज 27 मई 2018 का बड़े भैया और अपनी भाभी (शिक्षामित्र) के साथ अलीगढ़ के लिए निकले एटा से पेपर देने के लिए ।


थोड़ी सी घबराहट के साथ सेंटर पर पहुंच गए और भाभी अपने सेंटर पर । थोड़ी जल्दी पहुंच जाने के कारण सेंटर में अंदर बहुत कम भीड़ थी घबराहट हो रही थी कही कुछ भूल जाए लिखित परीक्षा है बस कन्हैया को याद कर रहा था । अब कमरे में एंट्री हुई तो गुरु जी को प्रणाम किया और देखा कमरे में 4 ही विद्यार्थी बैठे है धीरे धीरे विद्यार्थी आए समय के साथ पेपर आया क्यूकि 13 सब्जेक्ट थे तो पहले एक नजर में पेपर को देखा लेकिन एक बात अजीब लगी वो कार्बन कॉपी को लगाना और लिखित होने के कारण बस डर लग रहा था कि कहीं कटिंग या मात्रा में गलती ना हो जाए और पेपर खत्म हुआ । एक नजर में कॉपी को देखा तो चेहरे पर अब घबराहट नहीं एक खुशी नजर आने लगी कि क्वालीफाई तो पक्का हो गया ।


सेंटर के बाहर आया और भाभी भैया से मिला तो भाभी का पेपर अच्छा नहीं गया तो थोड़ी निराशा हुई क्यू कि भाभी प्रेगनेंट थी तो ज्यादा नहीं पढ़ सकी थी ।


कुछ दिन बाद पता चला फिर से 40 45 हो गया है तो से डर लगने लगा कि कहीं कोई आगे पीछे नहीं लिख दिया हो क्यू कि मेरे कुछ मित्रों के साथ ऐसा हो गया था ।


कोर्ट केस हुए 30 33 हट जाने के कारण लेकिन अचानक रिजल्ट निकलने की खबर मिली तो डर लगा फिर 41000 पास होने की की खबर मिली तो घबराहट बहुत हुई और भाई को बताया कि आज रिजल्ट निकल रहा है भाई को रोल नंबर बताया और आंखे बन्द कर ली अचानक कान में आवाज अाई रिंकल (मेरे घर का नाम ) तूने कमाल कर दिया 94 अंको के साथ परीक्षा पास की ।


खुशी का ठिकाना नहीं रहा और सबका आशीर्वाद लिया ।


फिर ट्वीट आया प्रभात सर जी का 5 sept को सबकी ज्वाइनिग होगी और महादेव की कृपा से सबको ज्वाइनिंग मिली मुझे मेरा ग्रह जनपद एटा में मेरी ब्लॉक मिली और विद्यालय गांव के पास मिला ।


ये थी 68500 की लिखित परीक्षा की कहानी तो दोस्तो कैसी लगी मुझे जरूर बताना ।।


👍अगर आपके पास भी कोई एसी आत्म कथा है तो हमारे WhatsApp नंबर 9682977770 पर भेजे या ईमेल करे sunindiatvnews@gmail.com पर आप की आत्म कथा को अपने 87000 पाठकों तक पहुंचाने का प्रयास करेंगे l


धन्यवाद ।।।।।


Popular posts from this blog

अपनी निडरता और क्षत्रिय वंश के कारण की यदुवंशीयों का नाम 'अहीर' यादव.

उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के नियमित, संविदा, और सेवा प्रदाताओं के कर्मचारियों सहित सभी 60 हजार कर्मचारियों को अप्रैल माह का पूर्ण वेतन और मानदेय दिया जाएगा:::~~डॉ राजशेखर प्रबन्ध निदेशक

ब्रेकिंग न्यूज़:यूपीएसआरटीसी के अधिकारियों और कर्मचारियों ने सुरक्षा बलों हेतु "सुरक्षा उपकरण किट" (1000 फेस मास्क, 1000 दस्ताने और 1000 हैंड सैनिटाइज़र) दान दिये:::---