ब्रेकिंग ::-👉👉उत्तर प्रदेश की ग्राम पंचायतों के लिए 58000 बैंकिंग कॉरेस्पाॅडेंट (बीसी सखी) सखियों का चयन पूर्ण::==पढें विस्तार से खबर

 


बीसी सखियां ग्राम स्तर पर गरीब के घर में सभी बैंकिंग सेवाओं के लिए एक स्टॉप समाधान प्रदान करेंगी, रूरल सेल्फ एम्प्लाॅयमेंट ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट के साथ साझेदारी में 06 दिवसीय प्रशिक्षण होगा

लखनऊः  23 नवम्बर, 2020

      राज्य सरकार ने उत्तर प्रदेश की ग्राम पंचायतों के लिए 58000 बैंकिंग कॉरेस्पाॅडेंट (बीसी सखी) सखियों का चयन पूर्ण कर लिया है। बैंकिंग कॉरेस्पाॅडेंट (बीसी सखी) के पद के लिए कुल 2,16,628 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया था, जिसमें से 58000 अभ्यर्थियों को अंतिम रूप से चयनित कर लिया गया है। यह जानकारी प्रदेश के ग्राम विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री मनोज कुमार सिंह ने आज यहां दी।

      अपर मुख्य सचिव ने बताया कि प्रदेश सरकार ने गत मई 2020 में यूपी की प्रत्येक ग्राम पंचायतों के लिए बैंकिंग कॉरेस्पाॅडेंट सखी (बीसी सखी) को शामिल करने की घोषणा की थी, इससे केवल बीसी सखियों का वित्तीय सशक्तिकरण ही नहीं हुआ, बल्कि ग्राम पंचायत आधारित यह बीसी सखियां ग्राम स्तर पर गरीबों के घर में सभी बैंकिंग सेवाओं के लिए एक स्टॉप समाधान भी प्रदान करेंगी। उन्होंने बताया कि हर ग्राम पंचायत का अपना बैंक होगा।

      श्री सिंह ने इस संबंध में विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि बीसी सखी के पद के लिए कुल 2,16,628 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया था, जिसमें से 58000 अभ्यर्थियों को अंतिम रूप से चयनित किया गया है। उन्होंने बताया कि चयन प्रक्रिया पूरी कर ली गई है और उनके द्वारा वीडियो लिंक पर राज्य के विभिन्न जिलों के 10 उम्मीदवारों से बात भी की है। उन्होंने बताया कि इनमें मीना मौर्य गोंडा, शिशिला, देवरिया, अनीता, सहारनपुर, अंजू, मुजफ्फरनगर, गंगादेवी, फतेहपुर ज्योति, फतेहपुर, शीला शर्मा, अलीगढ़, सोनिया, सहारनपुर, सोबना, सहारनपुर और रौशन जहान, फतेहपुर शामिल हैं।

      श्री सिंह ने बताया कि चयनित 58000 बीसी सखी का प्रशिक्षण शीघ्र ही प्रारम्भ होने वाला है। यह रूरल सेल्फ एम्प्लाॅयमेंट ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट के साथ साझेदारी में 06 दिवसीय प्रशिक्षण होगा, जिसके बाद उम्मीदवार भारतीय बैंकिंग और वित्त समावेश, डिजिटल साक्षरता और राज्य की महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए एक मील का पत्थर होगा।

      श्री सिंह ने बताया कि राष्ट्रीय फैशन प्रौद्योगिकी संस्थान (निफ्ट) रायबरेली को सखियों के लिए ड्रेस डिजाइन करने के लिए जोड़ा गया है और जल्द ही इसे अंतिम रूप दिया जाएगा। यह पूरे कार्यक्रम की ब्रांडिंग में मदद करेगा।

Popular posts from this blog

अपनी निडरता और क्षत्रिय वंश के कारण की यदुवंशीयों का नाम 'अहीर' यादव.

उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के नियमित, संविदा, और सेवा प्रदाताओं के कर्मचारियों सहित सभी 60 हजार कर्मचारियों को अप्रैल माह का पूर्ण वेतन और मानदेय दिया जाएगा:::~~डॉ राजशेखर प्रबन्ध निदेशक

ब्रेकिंग न्यूज़:यूपीएसआरटीसी के अधिकारियों और कर्मचारियों ने सुरक्षा बलों हेतु "सुरक्षा उपकरण किट" (1000 फेस मास्क, 1000 दस्ताने और 1000 हैंड सैनिटाइज़र) दान दिये:::---