ब्रेकिंग:-👉कल मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी लखनऊ म्युनिसिपल बॉन्ड की लिस्टिंग सेरेमनी के बनेंगे साक्षी::==पढें विस्तार से

 


उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी 02 दिसम्बर, 2020 को बॉम्बे  स्टॉक एक्सचेंज, मुम्बई में लखनऊ म्युनिसिपल बॉन्ड  की लिस्टिंग सेरेमनी में सम्मिलित होंगे। बता दें कि बुधवार को लखनऊ नगर निगम के 200 करोड़ रुपये के म्युनिसिपल बॉन्ड  की बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में लिस्टिंग होगी, जिसमें माननीय मुख्यमंत्री जी के साथ कई बड़ी हस्तियाँ भी इस ऐतिहासिक पलों के साक्षी बनेंगे।

उत्तर प्रदेश शासन में नगर विकास मंत्री माननीय श्री आशुतोष टंडन जी ने बताया " उत्तर प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री माननीय श्री योगी आदित्यनाथ जी कल लखनऊ नगर निगम के म्युनिसिपल बाण्ड की लिस्टिंग के ऐतिहासिक समय पर मौजूद रहेंगे। वर्ष 2018 में इन्वेस्टर्स समिट के समय आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी की घोषणा के बाद मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी ने लखनऊ नगर निगम के म्युनिसिपल बॉन्ड को लांच करने का फैसला किया था। इसे दीपावली के एक दिन पहले 13 नवंबर को सफलतापूर्वक बीएसई में लांच किया गया। कोरोना काल में इसे जारी करना यह एक बहुत बड़ी चुनौती थी, जिसे हमने सफलतापूर्वक पूरा किया।"

माननीय मंत्री जी ने बताया कि लिस्टिंग सेरेमनी की तैयारियों का जायजा लेने उनके साथ माननीय कैबिनेट मन्त्री श्री सिद्धार्थ नाथ सिंह जी और अपर मुख्य सचिव सूचना डा. नवनीत सहगल जी बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज पहुंचे।

माननीय मंत्री जी ने बताया कि म्युनिसिपल बॉन्ड से स्थानीय नगरीय प्रशासन के विकास कार्यों को तेजी मिलेगी। आने वाले समय में गाजियाबाद वाराणसी, आगरा और कानपुर के नगर निगम भी अपने म्युनिसिपल बॉन्ड जारी करेंगे। साथ ही केंद्र सरकार म्युनिसिपल बॉन्ड लाने के लिए लखनऊ नगर निगम को 26 करोड़ रुपये की सब्सिडी भी देगी।

लखनऊ नगर निगम का म्युनिसिपल बॉन्ड 225 फीसदी (450 करोड़) से अधिक सब्सक्राइब हुआ। 10 साल के बॉन्ड के लिए 8.5 फीसदी की उछाल के साथ एक बेहद ही आकर्षक दर पर बंद हुआ, जो उत्तर प्रदेश के पहले म्युनिसिपल बॉन्ड के लिए बड़ी उपलब्धि रही है।

Popular posts from this blog

उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के नियमित, संविदा, और सेवा प्रदाताओं के कर्मचारियों सहित सभी 60 हजार कर्मचारियों को अप्रैल माह का पूर्ण वेतन और मानदेय दिया जाएगा:::~~डॉ राजशेखर प्रबन्ध निदेशक

अपनी निडरता और क्षत्रिय वंश के कारण की यदुवंशीयों का नाम 'अहीर' यादव.