ब्रेकिंग::--👉👉*अन्तर्राष्ट्रीय पर्यावरण ओलम्पियाड का आयोजन 19 से 21 जनवरी को सी.एम.एस लखनऊ में*::==पढ़ें

👉*अन्तर्राष्ट्रीय पर्यावरण ओलम्पियाड का आयोजन 19 से 21 जनवरी तक सी.एम.एस. में👍*

*ऑनलाइन शाम 5 बजे मुख्य अतिथि डा. दिनेश शर्मा, उप-मुख्यमंत्री, उ.प्र. द्वारा किया जायेगा उद्घाटन*

*लखनऊ, 16 जनवरी2021*:

 सिटी मोन्टेसरी स्कूल, गोमती नगर (द्वितीय कैम्पस) द्वारा तीन दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय पर्यावरण ओलम्पियाड (आई.ई.ओ.-2021) का आयोजन 19 से 21 जनवरी तक ऑनलाइन किया जा रहा है। इस अन्तर्राष्ट्रीय पर्यावरण ओलम्पियाड में जर्मनी, जार्डन, रूस, कैनडा, आयरलैंड, श्रीलंका, नेपाल एवं भारत के विभिन्न राज्यों से मेधावी छात्र प्रतिभाग कर रहे हैं।

 ओलम्पियाड का उद्घाटन 19 जनवरी को मुख्य अतिथि *डा. दिनेश शर्मा*, उप-मुख्यमंत्री, उ.प्र. द्वारा ऑनलाइन शाम 5 बजे किया जायेगा। 

सिटी मोंटेसरी स्कूल के संस्थापक, *डॉ जगदीश गाँधी* ने बताया कि पर्यावरण पर आधारित यह अन्तर्राष्ट्रीय ओलम्पियाड पर्यावरणीय मुद्दों को मानवीय चेहरा देने का सतत् प्रयास है, इस अन्तर्राष्ट्रीय ओलम्पियाड के अन्तर्गत विभिन्न रोचक प्रतियोगिताएं आयोजित की जा रही हैं, जिनमें द ह्यू स्टोरी (चित्रकारी), फैंटेसी कार्निवाल (मास्क मेकिंग), इकोस्पेरिटी, स्प्रेड योर विंग्स (कोरियोग्राफी), ओड टु नेचर (भाषण ), वेबसाइट डिजाइनिंग, शटर एण्ड क्विल (फोटोग्राफी) आदि प्रमुख हैं। 

प्रतियोगिताओं का आयोजन चार वर्गों में होगा, जिसमें प्राइमरी वर्ग, जूनियर वर्ग, सीनियर वर्ग एवं स्कूल इवेन्ट शामिल है। 

इन प्रतियोगिताओं में देश-विदेश के छात्र अपने ज्ञान-विज्ञान का प्रदर्शन करने के साथ ही एक-दूसरे की सभ्यता व संस्कृति से भी परिचित हो सकेंगे। इस प्रकार यह ओलम्पियाड विभिन्न देशों की सभ्यताओं, संस्कृतियों व विचारों का संगम सिद्ध होगा।

*डॉ जगदीश गाँधी* ने बताया कि पर्यावरण ओलम्पियाड का आयोजन पर्यावरण संवर्धन की दिशा में मील का पत्थर साबित होगा l

Popular posts from this blog

:ब्रेकिंग:--👉👉👉मुख्यमंत्री ने निर्माण कार्यों को समयबद्ध ढंग से पूर्ण कराते हुए गुणवत्ता पर विशेष ध्यान रखने के निर्देश दिये:::==पढें विस्तार से खबर

:ब्रेकिंग:--👉🏻👉🏻👉🏻विश्वविद्यालयों से सम्बद्ध डिग्री कालेजों की संख्या निर्धारित की जाये::===श्रीमती आनंदीबेन पटेल

ब्रेकिंग:--👉👉नैक के मानकों के अनुरूप विश्वविद्यालय के मूल्यांकन को शत्-प्रतिशत बनायें::==श्रीमती आनंदीबेन पटेल