ब्रेकिंग ::--👉👉किसानों की आय दोगुनी करने के प्रति राज्य सरकार पूरी तरह संवेदनशील::==श्रीराम चौहान

उद्यान राज्य मंत्री द्वारा 86 लाख रू0 से निर्मित सेन्टर आॅफ एक्सीलेंस फाॅर वेजिटेबिल हाईटेक नर्सरी का लोकार्पण, 18 लाख रू0 से डिमांस्टेªशन केन्द्र व पाॅली हाउस आदि होंगे विकसित, किसानों को शाकभाजी के तैयार पौध मिलेंगे दो रू0 प्रति पौध की दर से

लखनऊ: दिनांक: 12 जनवरी, 2021

उत्तर प्रदेश के उद्यान, कृषि विपणन, कृषि विदेश व्यापार एवं कृषि निर्यात राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री श्रीराम चौहान ने आज मऊ जनपद के अन्तर्गत चन्द्रभानपुर में सेन्टर आॅफ एक्सीलेंस फाॅर वेजिटेबिल हाइटेक नर्सरी का लोकार्पण किया। उन्होंने बताया कि यह हाइटेक नर्सरी 86 लाख रू0 से निर्मित हुई है। इस हाइटेक नर्सरी का निर्माण मेसर्स सबीर बायोटेक संस्था द्वारा किया गया है। 

श्री चौहान ने लोकार्पण के उपरान्त आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि इस नर्सरी पर डिमांस्ट्रेशन के अलावा पाली हाउस, ड्रिप सिंचाई तथा अन्य विकास कार्य कराये जाएंगे। इन कार्यों पर कुल 18 लाख रू0 का व्यय प्रस्तावित है। उन्होंने कहा कि इस हाइटेक नर्सरी पर प्रतिमाह 03 लाख पौधे तैयार कर किसानों को न्यूनतम मूल्य पर उपलब्ध कराये जायेंगे। इससे शाकभाजी की अगैती फसल तैयार कर कृषकगण अच्छा लाभ प्राप्त कर सकते हैं। नर्सरी में पौध बीज रोपण सेमी आॅटोमेटिक सीडर मशीन से प्लास्टिक ट्रे में तैयार किया जायेगा। 

उद्यान राज्य मंत्री ने कहा कि इस नर्सरी की स्थापना से किसान भाईयों को शाकभाजी के पौध एवं बीज आदि के लिए इधर-उधर नहीं भटकना होगा। कोकोपिट रोपड़ के माध्यम से बीज रोपड़ से पौधों का बेहतर जड़ विकास होता है। इसमें तैयार पौधों का विक्रय दो रूपये प्रति पौध की दर से किया जायेगा। उन्होंने कहा कि यदि किसान अपना बीज लेकर जमाव कराते हैं अथवा पौध तैयार कराने के लिए इस केन्द्र पर लाते हैं तो पौध तैयार करने का किसानों से एक रूपये प्रति पौध ही उत्पादन प्रभार लिया जायेगा। 

श्री चौहान ने कहा कि किसानों को उच्च गुणवत्ता के फल एवं सब्जी के पौधों को न्यूनतम दर पर उपलब्ध कराना उद्यान विभाग की प्राथमिकता है। राज्य सरकार ने भी किसानों को शाकभाजी उत्पादन के लिए हर संभव मदद प्राथमिकता से देने की व्यवस्था की है। इसके लिए प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में भी हाईटेक नर्सरी का निर्माण कराया जा रहा है।

इस मौके पर उद्यान निदेशक डाॅ0 आर0के0 तोमर ने कहा कि वेंडर आॅफ एक्सीलेंस फाॅर वेजिटेबिल हाईटेक नर्सरी की स्थापना से किसानों को गुणवत्तायुक्त पौध और बीज की सुविधा मुहैया हो सकेगी। उन्होंने कहा कि हाईटेक नर्सरी से सुरक्षित पौध प्राप्त कर कृषकगण शाकभाजी की खेती व उत्पादन से क्रान्तिकारी परिवर्तन ला सकता हंै। इससे किसानों की आय में भी दोगुनी वृद्धि हो सकेगी। 

इस मौके पर उप निदेशक उद्यान आजमगढ़ मनोहर सिंह, जिला उद्यान अधिकारी सुभाष कुमार तथा उद्यान विभाग के वरिष्ठ अधिकारीगण एवं प्रगतिशील किसान बड़ी संख्या में उपस्थित थे। 




Popular posts from this blog

उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के नियमित, संविदा, और सेवा प्रदाताओं के कर्मचारियों सहित सभी 60 हजार कर्मचारियों को अप्रैल माह का पूर्ण वेतन और मानदेय दिया जाएगा:::~~डॉ राजशेखर प्रबन्ध निदेशक

अपनी निडरता और क्षत्रिय वंश के कारण की यदुवंशीयों का नाम 'अहीर' यादव.