ब्रेकिंग::--👉👉उपमुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य ने किया अभिनव प्रयोग::==पढें विस्तार से खबर क्या प्रयोग किया है


"समाधान ई-कम्प्लेन्ट ट्रैकिंग पोर्टल"  व "जनता दर्शन" मोबाइल ऐप  का  उप मुख्यमंत्री ने किया शुभारंभ।जन समस्याओं का होगा  समयबद्ध  समाधान ।मोबाइल ऐप के जरिए होगा "जनता दर्शन" कार्यक्रम

   

            देश मे इस तरह का पहला है ,यह मोबाइल  ऐप।समस्याओं के समाधान की,  की जायेगी गहन मानीटरिंग-केशव प्रसाद मौर्य


*जनपद देवरिया में महुआनी सोनूघट मार्ग (अ0जि0मा0) का चौड़ीकरण एवं सुदृढ़ीकरण का कार्य (लम्बाई 5.00 किमी0) हेतु रू0 03 करोड़ 07 लाख की धनराशि हुयी अवमुक्त*

 लखनऊ:  05 फरवरी 2021

उत्तर प्रदेश के  उपमुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य ने  जनता की शिकायतों व समस्याओं के त्वरित  गति से समाधान/निराकरण हेतु लोक निर्माण विभाग  मुख्यालय स्थित  तथागत सभागार में  "समाधान ई- कंप्लेंट पोर्टल"  व  "जनता दर्शन" मोबाइल  ऐप  का आज शुभारंभ   किया।

 उपमुख्यमंत्री  ने इस अवसर पर कहा कि जनता की शिकायतों व समस्याओं के निवारण की प्रक्रिया को और अधिक प्रभावी ,गतिशील व सरल  बनाये जाने के उद्देश्य  से यह वेब पोर्टल विकसित कराया गया है, जिस पर जनता घर बैठे मोबाइल के माध्यम से अपनी शिकायत /समस्या  दर्ज करा सकती हैऔर निवारण की स्थिति को देख सकती है। 

"जनता दर्शन "मोबाइल ऐप    के माध्यम से जनता दर्शन लगाया जाएगा ताकि प्रदेश की आम जनता की शिकायतों का उनके घर बैठे त्वरित निदान किया जा सके। उन्होंने कहा कि देश में  इस तरह का पहला मोबाइल एप है। 

उप मुख्यमंत्री जी  ने कहा कि लगभग 11 महीने से कोरोना काल के दृष्टिगत, दूर-दराज क्षेत्रों से  कतिपय लोग अपनी समस्याएं लेकर लखनऊ नहीं पहुंच पा रहे हैं।जो लोग आते भी है, उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता  है ,साथ ही साथ  आने मे समय तो  लगता ही है और अनावश्यक  रूप  से धन भी खर्च होता है ,यही नही कोरोना प्रोटोकोल  का पालन पूरी सावधानी के साथ  करना ही होता है।इस ऐप से स्थानीय स्तर पर ज्यादा से ज्यादा  जन समस्याओं का समाधान हो  सकेगा।  अब "जनता दर्शन" मोबाइल ऐप के माध्यम से भी लगाया जायेगा,ताकि  जनता की शिकायतो व समस्याओं का निराकरण  घर बैठे ही त्वरित गति से कराया जा सके।  हलांकि  सोमवार  को  उप मुख्यमंत्री  के सरकारी आवास 7- कालिदास मार्ग पर  आयोजित  होने वाला  जनता  दर्शन  कार्यक्रम  पूर्व की भांति  चलता रहेगा। 

 उपमुख्यमंत्री ने कहा  कि धीरे-धीरे देश नवीन तकनीकी के आधार पर आगे बढ़ रहा है ।उत्तर प्रदेश में भी कोविड काल के दौरान वर्चुअल रूप से जनता की सेवा करने का काफी प्रयास किया गया है। आने वाले समय में इस ऐप की उपयोगिता साबित करने का भरपूर प्रयास किया जाएगा और समय बद्ध तरीके से समस्याओं का निदान कराया जाएगा, यही नहीं समस्याओं के समाधान की मानिटरिंग भी की जाएगी तथा कॉल सेंटर के माध्यम से फरियादियों से संवाद कर उनकी समस्या निदान की संतुष्टि के बारे में भी पूछा जाएगा। यह ऐप बहुत ही सरलता के साथ संचालित किया जा सकेगा।यह आम जनता की समस्याओं के समाधान का बहुत ही अच्छा प्लेटफार्म तैयार हुआ है।

जनता दर्शन मोबाइल ऐप के बारे में जानकारी देते हुए श्री  मौर्य ने  बताया कि गूगल प्ले स्टोर के माध्यम से अथवा  लोक निर्माण विभाग की वेबसाइट से जनता दर्शन मोबाइल ऐप डाउनलोड कर मोबाइल पर इंस्टॉल किया जा सकता है। इस इंस्टॉलेशन के लिए अपना मोबाइल नंबर फीड करना होगा, जिसका ओ०टी०पी० उसी मोबाइल पर आ जाएगा ।जनता दर्शन मोबाइल एप लॉगिन करते ही अगले जनता दर्शन की तिथि व सामान्य अनुदेश  एस ०एम० एस ०के माध्यम से प्राप्त हो जाएंगे ।   शिकायतकर्ता को जनता दर्शन हेतु पंजीकरण की सूचना एस०एम०एस० के माध्यम से प्राप्त हो जाएगी ।

इस पोर्टल व ऐप के शुभारम्भ  के अवसर पर, राज्यमन्त्री,  लोक निर्माण विभाग ,  श्री चंद्रिका प्रसाद उपाध्याय, विधायक (बछरावां) श्री राम नरेश रावत,  प्रमुख सचिव लोक निर्माण विभाग श्री नितिन रमेश गोकर्ण ,विभागाध्यक्ष  लोक निर्माण विभाग  श्री  राजपाल सिंह, उत्तर प्रदेश सेतु निगम के  प्रबंध निदेशक श्री  अरविंद श्रीवास्तव  ,यूपी  आर एन एन के  प्रबंध निदेशक  श्री एस पी सिंघल,  प्रमुख अभियंता श्री ए के जैन  मुख्य अभियंता  श्री संजय श्रीवास्तव व श्री आर सी शुक्ला ,अधीक्षण अभियंता  श्री अशोक कुमार कनौजिया  अधिशासी अभियंता  श्री  राजीव राय  सहित अन्य अधिकारी व विशिष्ट लोग  मौजूद रहे। 

उ0प्र0 शासन द्वारा प्रमुख/अन्य जिला मार्ग के उच्चीकरण योजनान्तर्गत जनपद देवरिया में महुआनी सोनूघट मार्ग (अ0जि0मा0) का चैड़ीकरण एवं सुदृढ़ीकरण का कार्य (लम्बाई 5.00 किमी0) हेतु रू0 03 करोड़ 07 लाख की धनराशि अवमुक्त की गयी है। इस कार्य हेतु आंकलित लागत रू0 15 करोड़ 37 लाख 30 हजार की प्रशासकीय एवं वित्तीय स्वीकृति प्रदान की गयी है। इस सम्बन्ध में आवश्यक शासनादेश उ0प्र0 शासन लोक निर्माण द्वारा जारी किया गया है।

जारी शासनादेश में विभाग के सम्बन्धित अधिकारियों को कार्य प्रारम्भ करने से पूर्व सक्षम स्तर से प्राविधिक स्वीकृति एवं वित्तीय हस्तपुस्तिका में वर्णित व्यवस्था के अनुसार सक्षम स्तर से तकनीकी स्वीकृति प्राप्त कर, कार्य प्रारम्भ करने के निर्देश दिये गये हैं।

उपमुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य ने विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि कार्य की विशिष्टियां, मानक व गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखा जाय तथा कार्य ससमय पूर्ण किया जाना सुनिश्चित किया गया l


Popular posts from this blog

अपनी निडरता और क्षत्रिय वंश के कारण की यदुवंशीयों का नाम 'अहीर' यादव.

उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के नियमित, संविदा, और सेवा प्रदाताओं के कर्मचारियों सहित सभी 60 हजार कर्मचारियों को अप्रैल माह का पूर्ण वेतन और मानदेय दिया जाएगा:::~~डॉ राजशेखर प्रबन्ध निदेशक

ब्रेकिंग न्यूज़:यूपीएसआरटीसी के अधिकारियों और कर्मचारियों ने सुरक्षा बलों हेतु "सुरक्षा उपकरण किट" (1000 फेस मास्क, 1000 दस्ताने और 1000 हैंड सैनिटाइज़र) दान दिये:::---