::--👉👉मुख्यमंत्री ने गोरखपुर हवाई अड्डे के टर्मिनल भवन के विस्तार कार्य का शिलान्यास तथा गोरखपुर-लखनऊ-गोरखपुर खण्ड में नई फ्लाइट का शुभारम्भ किया::==पढें विस्तार से खबर

 

टर्मिनल भवन का निर्माण पूर्ण होते ही 200 और यात्रियों के ठहराव की अतिरिक्त क्षमता बढ़ जाएगीआज गोरखपुर-लखनऊ उड़ान सेवा के साथ ही प्रयागराज से भोपाल व भुवनेश्वर, आगरा से भोपाल व बेंगलुरु सहित 05 शहरों में उड़ान सेवा शुरू की गयी: मुख्यमंत्री

29 मार्च, 2021 को आगरा से मुम्बई और अहमदाबाद के लिए भी उड़ान सेवा प्रारम्भ होगी, प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी की प्रेरणा से पूर्वांचल वासियो की सुविधा के लिये  टर्मिनल भवन विस्तार कार्य का शिलान्यास तथा हवाई सेवा का शुभारम्भ हुआ, अयोध्या में अन्तर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट निर्मित किया जा रहा, एशिया का सबसे बड़ा अन्तर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट जेवर में तैयार हो रहा है

कुशीनगर अन्तर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट से शीघ्र ही वायु सेवाएं प्रारम्भ हांेगीप्रदेश के 17 मण्डल/जनपद मुख्यालय जैसे झांसी, अलीगढ़, आजमगढ़, मेरठ, सोनभद्र, ललितपुर आदि में एयरपोर्ट बन रहे, हवाई सेवा केवल समय की बचत ही नहीं करता है, बल्कि विकास को तीव्र गति प्रदान करता हैभारत सरकार के सहयोग से प्रदेश विकास के पथपर निरन्तर अग्रसरकानपुर एवं आगरा में मेट्रो का कार्य तेजी से चल रहाउ0प्र0 पहला राज्य है जिसने सिविल एविएशन पाॅलिसी बनायी: श्री हरदीप सिंह पुरी

लखनऊ: 28 मार्च, 2021

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने आज गोरखपुर हवाई अड्डे के टर्मिनल भवन के विस्तार कार्य का शिलान्यास तथा एलायन्स एयर की आई0सी0एस0-उड़ान के अन्तर्गत गोरखपुर-लखनऊ-गोरखपुर खण्ड में नई फ्लाइट का शुभारम्भ किया। उन्होंने नई उड़ान को झण्डी दिखाकर रवाना किया। ज्ञातव्य है कि टर्मिनल भवन का विस्तार कार्य पूर्ण होते ही हवाई अड्डे पर 200 और यात्रियों के ठहराव की अतिरिक्त क्षमता उपलब्ध हो जाएगी। गोरखपुर से लखनऊ की फ्लाइट का किराया 1470 रुपये होगा।

अपने संबोधन में मुख्यमंत्री जी ने कहा कि आज गोरखपुर-लखनऊ उड़ान सेवा के साथ ही प्रयागराज से भोपाल व भुवनेश्वर, आगरा से भोपाल व बेंगलुरु सहित 05 शहरों में उड़ान सेवा शुरू की गयी है। 29 मार्च, 2021 को आगरा से मुम्बई और अहमदाबाद के लिए भी उड़ान सेवा प्रारम्भ होगी। उन्होंने कहा कि यात्रियों को सुरक्षित एवं समयबद्ध सेवा प्रदान करने हेतु यात्रियों की मांग/संख्या के आधार पर भारत सरकार के सहयोग से और उड़ान सेवाएं प्रदान की जाएंगी।

मुख्यमंत्री जी ने शुभकामनाएं एवं बधाई देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी की प्रेरणा से पूर्वांचल वासियों की सुविधा के लिए हवाई सेवा का शुभारम्भ तथा टर्मिनल भवन के विस्तार कार्य का शिलान्यास हुआ है। प्रदेश में 04 वर्ष पहले वाराणसी और लखनऊ को छोड़कर अन्य हवाई सेवाओं की स्थिति संतोषजनक नहीं थी, लेकिन वर्ष 2017 से इसमें काफी प्रगति हुई है। वर्तमान समय में गोरखपुर से नई दिल्ली, मुम्बई, कोलकाता, बेंगलुरु, हैदराबाद व प्रयागराज जैसे प्रमुख शहरों के लिए फ्लाइट की सुविधा उपलब्ध थी और आज से गोरखपुर से लखनऊ के लिए भी  उड़ान सेवा शुरू हो गई।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि अयोध्या में अन्तर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट निर्मित किया जा रहा है। एशिया का सबसे बड़ा अन्तर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट जेवर में तैयार हो रहा है। कुशीनगर के अन्तर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट से शीघ्र ही वायु सेवाएं प्रारम्भ होंगी। प्रदेश में 17 मण्डल/जनपद मुख्यालय जैसे झांसी, अलीगढ़, आजमगढ़, मेरठ, सोनभद्र, ललितपुर आदि में एयरपोर्ट बन रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जी की परिकल्पना है कि एक सामान्य नागरिक भी उड़ान सेवा का लाभ प्राप्त करे और हवाई चप्पल पहनने वाला भी हवाई सेवा का लाभ उठाए। उनकी परिकल्पना साकार हो रही है, हर क्षेत्र में हवाई सेवा का विस्तार हुआ है। गोरखपुर में यात्रियों की बढ़ती संख्या/मांग के आधार पर हवाई सेवा का विस्तारीकरण किया जा रहा है। हवाई सेवा केवल समय की बचत ही नहीं करती, बल्कि विकास की गति भी तेज करती है।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि भारत सरकार के सहयोग से प्रदेश विकास के पथ पर निरन्तर अग्रसर है। मेट्रो सेवाओं की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि गोरखपुर में मेट्रो की कार्य योजना भारत सरकार को प्रेषित की जा चुकी है। कानपुर एवं आगरा में मेट्रो का कार्य तेजी से चल रहा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना से सभी पात्र लाभार्थियों को अच्छादित किया जा रहा है। अमृत योजना के अन्तर्गत कार्य योजना के अनुसार कार्यवाही की जा रही है। प्रदेश में 10 महानगर स्मार्ट सिटी मिशन के तहत विकसित विकसित किये जा रहे है। जल जीवन मिशन के अन्तर्गत ग्रामीण क्षेत्रों के साथ-साथ शहरी क्षेत्र में भी कार्य किया जा रहा है।

भारत सरकार के नागर विमानन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि उत्तर प्रदेश निरन्तर विकास की ओर अग्रसर है। यहां मेट्रो रेल का कार्य तीव्र गति से चल रहा है। प्रधानमंत्री जी की परिकल्पना के अनुसार उड़ान सेवा का लाभ देश के आम नागरिकों को मिले, इस दिशा में कार्य प्रगतिशील है। प्रधानमंत्री आवास योजना के अन्तर्गत उत्तर प्रदेश में 17 लाख 75 हजार से अधिक आवास स्वीकृत हुए हैं और 12 लाख 56 हजार पर कार्य प्रगति पर है। इसके अलावा, स्वच्छ भारत मिशन और  स्वनिधि योजना में उत्तर प्रदेश टाॅप पर है। उन्होंने कहा कि एयरपोर्ट टर्मिनल के विस्तार के बाद अत्याधुनिक सुविधाओं से युक्त इस टर्मिनल से यात्रियों को काफी सहूलियत होगी और गोरखपुर से उड़ानों की संख्या भी बढ़ जाएगी। उत्तर प्रदेश पहला राज्य है जिसने सिविल एविएशन पाॅलिसी बनायी है। उन्होंने यह भी कहा कि जेवर अन्तर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट निर्धारित समय-सीमा के अन्तर्गत पूर्ण कर लिया जाएगा।

प्रदेश के नागरिक उड्डयन मंत्री श्री नन्द गोपाल गुप्ता ‘‘नन्दी’’ ने कहा कि प्रधानमंत्री जी की प्रेरणा एवं मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश निरन्तर विकास की और आगे बढ़ रहा है। हर मण्डल मुख्यालय को उड़ान सेवा से जोड़ा जा रहा है। प्रदेश में 08 एयरपोर्ट हैं और एयर कनेक्टिविटी 27 महानगरों से है। जेवर एयरपोर्ट धरातल पर साकार हो रहा है। यह पश्चिमी उत्तर प्रदेश में रोजगार सृजन के लिए मील का पत्थर साबित होगा। यहाँ कानून का राज कायम है। उन्होंने कहा कि कोरोना काल खण्ड में मुख्यमंत्री जी ने राहत कार्यों पर स्वयं निरन्तर निगरानी रखते हुए लोगों की जान बचाने के साथ ही कोरोना को नियंत्रित रखने में विजय प्राप्त की। वैक्सिनेशन में भी उत्तर प्रदेश अग्रणी है।

इस अवसर पर सांसद श्री रवि किशन शुक्ल, सांसद श्री शिव प्रताप शुक्ल, सांसद श्री जय प्रकाश निषाद, सांसद श्री कमलेश पासवान, विधायक डाॅ0 राधामोहन दास अग्रवाल, विधायक सुश्री संगीता यादव, महापौर श्री सीताराम जायसवाल, अन्य जनप्रतिनिधिगण, भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण के चेयरमैन श्री अनुज अग्रवाल, अपर मुख्य सचिव मुख्यमंत्री एवं नागरिक उड्डयन श्री एस0पी0 गोयल सहित जिला-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

--------

Popular posts from this blog

उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के नियमित, संविदा, और सेवा प्रदाताओं के कर्मचारियों सहित सभी 60 हजार कर्मचारियों को अप्रैल माह का पूर्ण वेतन और मानदेय दिया जाएगा:::~~डॉ राजशेखर प्रबन्ध निदेशक

अपनी निडरता और क्षत्रिय वंश के कारण की यदुवंशीयों का नाम 'अहीर' यादव.