सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि काशी को वैश्विक मानचित्र पर लाने और भारत को आर्थिक समृद्धि और सामरिक ताकत का अहसास कराने वाले पीएम मोदी काशी आए हैं


सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि काशी को वैश्विक मानचित्र पर लाने और भारत को आर्थिक समृद्धि और सामरिक ताकत का अहसास कराने वाले पीएम मोदी काशी आए हैं उनका हार्दिक स्वागत। काशी हम सबकी आध्यात्मिक नगरी है वैश्विक मानचित्र पर काशी को ले जाने के लिए पीएम ने जो बीड़ा उठाया। इस दौरान अनेक राष्ट्राध्यक्षों का दौरा हुआ। विकास के नए प्रतिमान बनाए हैं। पीएम ने काशी आगमन के समय कहा था मुझे मां गंगा ने बुलाया है। मुझे बाबा विश्वनाथ ने बुलाया है। सैकड़ों वर्ष से गंगा अविरलता निर्मलता के लिए तड़प रही थीं। पीएम ने इसके लिए नया आयाम दिया। कुंभ का सफल आयोजन हुआ उसमें नमामि गंगे का बडा योगदान था। आज काशी व दुनिया के अंदर भारत की संस्कृति के लिए गौरव का दिन है।


 


यहां लगभग तीन सौ वर्षों के बाद विश्वनाथ की सुंदरीकरण का शुभारंभ हुआ है। याद कीजिए तीन सौ वर्षों तक किसी को फुर्सत नहीं थी। आजादी के बाद भी किसी ने नहीं सुधि ली। गांधी ने भी गलियों पर टिप्पणी की थी। गंदगी को लेकर भी उन्होंने कहा था। जिस प्रकार से काशी विश्वनाथ को सोमनाथ के भांति ही आगे बढाने का काम किया है। सैकडों वर्षों से काशी ही नहीं पूरी दुनिया के सनातन हिंदू इंतजार कर रहे थे। आपके साथ पीएम संवाद करने आए हैं।


महिलाओं को महिला दिवस की बधाई। पीएम ने मातृ शक्ति को सम्मान दिया है। पीएम ने उपहारों से मिली धनराशि गुजरात की कन्याओं की शिक्षा के लिए दान कर दिया। गुजरात के सरकारी कर्मियों के कन्याओं के लिए स्वयं के सेविंग को दान दिया। पीएम ने पीएम के तौर पर मिले उपहारों की राशि से मां गंगा के नमामि गंगे मिशन को दान दिया है। हम गौरवान्वित हैं अपने नेता पर जिन्हें सियोल पीस पुरस्कार मिला उसे भी उन्होंने मां गंगा को दान कर दिया। संगम में आस्था की डुबकी लगाई और स्वच्छता कर्मियों के पैर धुलकर उनका भी सम्मान किया है। स्वयं की बचत का हिस्सा भी पीएम ने उनको दिया हो। योजनाओं के माध्यम से पीएम मोदी ने मातृ शक्ति का सम्मान किया है।


विश्वनाथ कॉरिडोर से काशी को नई पहचान मिलेगी : नरेंद्र मोदी


काशी विश्वनाथ परिसर के पास सभास्थल पर लोगों को संबोधित करने के बाद रेड जोन में मंदिर दफ्तर के पास ही भूमि पूजन कर काशी की प्राचीन वैदिक रीति से सस्वर वेद मंत्रों के बीच विधि-विधान पूर्वक पांच शिलाएं रख कर शिलान्यास किया।


श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर न्यास परिषद के अध्यक्ष आचार्य पं. अशोक द्विवेदी के निर्देशन में दो-दो वैदिक विद्वान पूजन-अनुष्ठान के विधान पूरे कराएं तो इस दौरान 11 वैदिक विद्वानों ने मंत्रोच्चार किया। पीएम ने कॉरिडोर निर्माण का शिलापट्ट करने के साथ ही भवनों के ध्वस्तीकरण के दौरान मिले देवालयों को भी शीश झुकाया और नमन किया। वहीं कॉरिडोर से ही मां गंगा को भी उन्होंने नमन किया। इस लिहाज से क्षेत्र में आने वाले देवालयों की मरम्मत, रंगाई -सफाई कर फूलों से शिखर तक सजाए गए थे।


Popular posts from this blog

उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के नियमित, संविदा, और सेवा प्रदाताओं के कर्मचारियों सहित सभी 60 हजार कर्मचारियों को अप्रैल माह का पूर्ण वेतन और मानदेय दिया जाएगा:::~~डॉ राजशेखर प्रबन्ध निदेशक

अपनी निडरता और क्षत्रिय वंश के कारण की यदुवंशीयों का नाम 'अहीर' यादव.