Posts

ब्रेकिंग:--👉सेनानी परिवार यदि अब भी चुप रहे तो गौरैया पक्षी की तरह लुप्त प्रजाति में चले जाएंगे::---जितेन्द्र रघुवंशी

Image
113 वर्षीय स्वतंत्रता सेनानी दादा लेखराज सहित कई वरिष्ठ सेनानियों ने आजादी के कर्मवीरों के परिवारों की उपेक्षा न करने की दी मोदी सरकार को सलाह बहराइच में जुटे उ.प्र. समेत एक दर्जन प्रान्तों के स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के उत्तराधिकारी परिजन बहराइच, 13 नवम्बर।   यहां के.डी.पैलेस होटल में स्वतंत्रता संग्राम सेनानी स्मारिका विमोचन समारोह में अखिल भारतीय स्वतंत्रता संग्राम सेनानी उत्तराधिकारी संगठन बहराइच/श्रावस्ती द्वारा अतिथियों के स्वागत सत्कार के लिए अपनी अमिट छाप छोड़ते हुए राष्ट्रीय सम्मेलन संपन्न हुआ।  देश के लगभग एक दर्जन प्रांतों से स्वतंत्रता सेनानी परिवारों के प्रतिनिधियों ने इस सम्मेलन में पहुंचकर बहराइच/श्रावस्ती के स्वतंत्रता सेनानी परिवारों के लिए प्रेरणा स्रोत बने। आयोजन की शुरुआत 113 वर्षीय वरिष्ठ स्वतंत्रता संग्राम सेनानी स्वामी लेखराज जी एवं गृह मंत्रालय भारत सरकार द्वारा गठित एमिनेंट कमेटी के सदस्य श्री पाण्डुरंग गणपति शिंदे जी द्वारा संयुक्त रूप से दीप प्रज्ज्वलन करके की गई। आयोजकों के द्वारा देश के विभिन्न भागों से आए हुए पदाधिकारियों का स्मृति चिन्ह, अंगवस्त्र तथा

ब्रेकिंग::::👉👉आईआरटीएसए सवारी डिब्बा कारखाना, आलमबाग, लखनऊ द्वारा मनाया गया अभियंता दिवस

Image
  आईआरटीएसए द्वारा आयोजित "अभियंता दिवस" सवारी डिब्बा कारखाना, आलमबाग, लखनऊ के कमेटी हॉल,  में बड़े ही धूमधाम से मनाया गया जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में श्री विवेक कुमार खरे जी मुख्य कारखाना प्रबंधक, आलमबाग ने शिरकत किया ।तथा विशिष्ट अतिथि के रूप में श्री अनूप बाजपेई जी, केंद्रीय वरिष्ठ उपाध्यक्ष, आईआरटीएसए, श्री पीके शुक्ला जी, केंद्रीय कार्यकारी अध्यक्ष/ जोनल अध्यक्ष, आईआरटीएसए श्री अखिलेश विश्वकर्मा जी, जोनल महामंत्री, आईआरटीएसए, उप मुख्य यांत्रिक अभियंता, श्री अनुराग मिश्रा जी ,श्री राजेश कुमार जी, श्री प्रशांत कुमार राय जी, उप मुख्य कार्मिक अधिकारी, श्री मनोज कुमार यादव जी, (डब्ल्यूएम) श्री कपिल देव जी (ए डब्ल्यू ई) श्री रविंद्र कुमार जी (एसीएमटी) श्री संजीव कुमार मिश्रा जी, शाखा मंत्री, तथा मंच का सफल संचालन श्री विष्णु प्रकाश मिश्रा जी ने  किया। श्री सतीश चंद्र पांडे जी ने क्विज प्रतियोगिता बहुत ही सफल तरीके से कराया, टेक्निकल क्विज प्रतियोगिता श्री अनुराग मिश्रा जी  एवं श्री विवेक कुमार खरे सर के सहयोग से बहुत ही आकर्षण का केंद्र रहा इंजीनियर यशार्थ श्रीवास्तव जी के ब

मुख्यमंत्री ने जनपद वाराणसी में परिषदीय विद्यालयों के बच्चों के मध्यान्ह् भोजन के लिए एल0टी0 कॉलेज परिसर में 24 करोड़ रु0 की लागत से तैयार केन्द्रीकृत रसोईघर का निरीक्षण किया::--👉

Image
केन्द्रीकृत रसोई की शुरुआत जुलाई माह से करने का लक्ष्यब च्चों को अब मशीनीकृत आधुनिक रसोई से शुद्ध व पौष्टिक गरमा-गरम मध्यान्ह् भोजन (एम0डी0एम0) मिलेगा मुख्यमंत्री ने चाइल्ड केयर सेण्टर, सिकरौल का निरीक्षण किया, चाइल्ड केयर सेण्टर में छोटे बच्चों व उनके परिजनों से भेंट कर उनका कुशलक्षेम जाना तथा बच्चों को उपहार भी वितरित किए लखनऊ: 25 जून, 2022 उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने आज जनपद वाराणसी में परिषदीय विद्यालयों के बच्चों के मध्यान्ह् भोजन के लिए एल0टी0 कॉलेज परिसर में 24 करोड़ रुपये की लागत से तैयार केन्द्रीकृत रसोईघर का निरीक्षण किया। ज्ञातव्य है कि जनपद वाराणसी में 1,143 परिषदीय विद्यालय हैं। अक्षय पात्र फाउण्डेशन ने केन्द्रीकृत रसोई की शुरुआत जुलाई माह से करने का लक्ष्य रखा है। 25,000 बच्चों को इस रसोई के माध्यम से भोजन मिलेगा। 06 माह बाद रसोईघर की क्षमता बढ़ाकर एक लाख तथा 01 वर्ष बाद दो लाख करने का लक्ष्य रखा गया है। केन्द्रीकृत रसोई की शुरुआत होने से परिषदीय विद्यालयों के शिक्षकों को मध्यान्ह् भोजन बनवाने से निजात मिलेगी। बच्चों को अब मशीनीकृत आधुनिक रसोई से शुद्ध

गांधी जी के ग्राम स्वराज्य और प्रधानमंत्री जी के आत्मनिर्भर भारत का सपना ग्राम पंचायतों की आत्म निर्भरता से पूरा हो रहा:::-👉

Image
मुख्यमंत्री द्वारा स्वामित्व योजना के अन्तर्गत 11 लाख ग्रामीण आवासीय अभिलेख (घरौनी) का ऑनलाइन वितरण घरौनी वितरण का यह कार्यक्रम भारत के लोकतंत्र के इतिहास का बहुत ही महत्वपूर्ण पड़ाव: मुख्यमंत्री प्रधानमंत्री जी के प्रयास से पूरे देश में अप्रैल, 2020 में ग्रामीण आवासीय अभिलेख (घरौनी) उपलब्ध कराने का अभिनव कार्यक्रम प्रारम्भ किया गया लोकतंत्र को पुनर्जीवित करने के लिए और जनता की आवाज को शासन-प्रशासन तक पहुंचाने के लिए निर्बाध गति से संघर्ष करने वाले लोकतंत्र सेनानियों को नमन करते हुए घरौनी वितरण का कार्यक्रम शुरु किया जा रहाप्रदेश मंे अब ग्रामीण क्षेत्र में 34 लाख ऐसे परिवार होंगे, जिनके पास उनकी जमीन का आवासीय पट्टा उनके नाम पर होगा जनपद जालौन आज प्रदेश का पहला ऐसा जनपद हो जाएगा,  जहां 100 प्रतिशत घरौनी का वितरण हो चुका होगाअगस्त, 2022 तक पूरे प्रदेश में 01 लाख 10 हजार 300 से अधिक राजस्व ग्रामों के सर्वे का कार्य सम्पन्न किया जाएगा प्रदेश में अक्टूबर, 2023 तक ग्रामीण क्षेत्र में हर एक व्यक्ति को ग्रामीण आवासीय अभिलेख उपलब्ध कराने की कार्यवाही सम्पन्न हो चुकी होगी अब तक 64,000 हेक्टेयर स

मुख्यमंत्री ने डॉ0 श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान दिवस पर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि दी::---

Image

:ब्रेकिंग:--👉🏻👉🏻👉🏻विश्वविद्यालयों से सम्बद्ध डिग्री कालेजों की संख्या निर्धारित की जाये::===श्रीमती आनंदीबेन पटेल

Image
राज्यपाल के समक्ष उच्च शिक्षा के क्षेत्र में राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 के क्रियान्वयन हेतु की गई कार्यवाही का प्रस्तुतिकरण हुआ--राज्यपाल ने कहा प्रस्तुतिकरण सराहनीय क्रियान्वयन किया जाए--विश्वविद्यालयों के वर्षवार पाठ्यक्रमों में विषयगत समानता सुनिश्चित की जाए--नई शिक्षा नीति के तहत लागू बदलावों का विश्वविद्यालयों में भौतिक सत्यापन हो--विश्वविद्यालयों में लेखा विवरण तथा एकाउन्टेंसी को व्यवस्थित कराया जाए -- एसेट रजिस्टर आवश्यक रूप से अद्यतन रखा जाए-विवरणों के आनलाइन अंकन नियमित किए जाए-विश्वविद्यालय में लम्बित डिग्रियों को शीघ्र वितरित कराया जाए---समन्यवयात्मक पाठ्यक्रमों को प्रारम्भ करने में रूचि लें-----कक्षा एक में पढ़ने वाले विद्यार्थी को नामांकित मानकर उच्च शिक्षा तक ड्राप आउट चेक करें-डा0 शकुन्तला मिश्रा राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय अपनी योजनाओं का धरातलीय निरूपण करे--संगीत की शिक्षा को मुख्य धारा में शिक्षा ले रहे विद्यार्थियों के लिए विषय चयन के साथ जोड़ने पर विचार किया जाये ---भारत सरकार की राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 को यथाशीघ्र क्रियान्वित करने हेतु प्रदेश सरकार कृत संकल्प

ब्रेकिंग:--👉👉नैक के मानकों के अनुरूप विश्वविद्यालय के मूल्यांकन को शत्-प्रतिशत बनायें::==श्रीमती आनंदीबेन पटेल

Image
लखनऊ : 9 अगस्त, 2021  उत्तर प्रदेश की राज्यपाल एवं कुलाधिपति श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने आज राजभवन में नैक मूल्यांकन हेतु लखनऊ विश्वविद्यालय, लखनऊ तथा पं0 मदन मोहन मालवीय प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, गोरखपुर का प्रस्तुतीकरण देखा। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय जिन मानकों में पिछड़ रहे हैं, उनके लिए और अधिक प्रयास करें तथा नैक मानकों के अनुरूप अपने विश्वविद्यालय के मूल्यांकन को शत्-प्रतिशत बनाने का प्रयास करें। राज्यपाल जी ने प्रस्तुतीकरण के दौरान कई ऐसे छोटे-छोटे बिन्दुओं पर ध्यान आकर्षित कराया, जहां विश्वविद्यालय अपने प्रयासों से स्तर में सुधार लाकर मूल्यांकन में वृद्धि कर सकते हैं। राज्यपाल जी के समक्ष आज लखनऊ विश्वविद्यालय ने अपने तीसरे नैक मूल्यांकन तथा पं0 मदन मोहन मालवीय प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय ने प्रथम नैक मूल्यांकन हेतु तैयारियांं का प्रस्तुतीकरण दिया। ज्ञात हो कि नैक द्वारा विश्वविद्यालयों के स्तर का मूल्यांकन 75 प्रतिशत डेटा आधारित तथा 25 प्रतिशत विजिट आधारित होता है। इसके लिए समग्र मूल्यांकन की सात श्रेणियां निर्धारित हैं। लखनऊ विश्वविद्यालय ने अपने गत नैक मूल्यांकन में B श्रेण