ब्रेकिंग::--👉👉राज्यपाल ने स्टोन वर्क के उत्पादों का किया अवलोकन::==पढें विस्तार से खबर

स्वयं सहायता समूह से समाज में एकता व समरसता का भाव--मन की सफाई करके ईष्र्या-द्वेष समाप्त करे


कार्य के साथ-साथ बच्चों के व्यवहार पर ध्यान दें-किसान जैविक खेती को प्राथमिकता दें - श्रीमती आनंदीबेन पटेल

लखनऊः 15 जनवरी, 2021


उत्तर प्रदेश की राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने जनपद आगरा भ्रमण कार्यक्रम के अन्तर्गत औद्योगिक आस्थान शास्त्रीपुरम, सिकन्दरा स्थित स्टोनमैन क्राफ्ट इण्डिया प्रा0लि0 का निरीक्षण किया। उन्होंने स्टोन वर्क के उत्पादों का अवलोकन करते हुए उसकी बारीकियों के बारे में संस्थान के प्रबन्धक से जानकारी प्राप्त की। राज्यपाल स्टोन वर्क के उत्पादों से काफी प्रभावित हुईं और इन कार्यों की प्रशंसा भी की। उन्होंने कदम का पौधा रोपित कर पर्यावरण का संतुलन एवं पर्यावरण को स्वच्छ बनाये रखने के लिये सभी लोगों से सहयोग करने की अपील की।  

राज्यपाल ने सर्किट हाउस, आगरा पर स्वयं सहायता समूह की महिला लाभार्थियों द्वारा तैयार किये गये उत्पादों की प्रदर्शनी का शुभारम्भ किया। उन्होंने प्रदर्शनी के अवलोकन के दौरान महिलाओं से संवाद करते हुए उनके द्वारा तैयार उत्पादों की सराहना की। इस अवसर पर राज्यपाल ने केनरा बैंक द्वारा 2 करोड़ 76 लाख एवं बैंक आॅफ बड़ौदा द्वारा 79 लाख रूपये का स्वयं सहायता समूहों को स्वीकृत ऋण का चेक प्रतीक स्वरूप स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को दिया।

राज्यपाल को सर्किट हाउस में स्वयं सहायता समूह की महिलाओं के साथ बैठक के दौरान महिलाओं ने बताया कि समूह के माध्यम से होने वाली आय से परिवार की आय में वृद्धि के साथ-साथ समाज में सम्मान भी बढ़ा है और वह बच्चों को अच्छी शिक्षा दिलाने में सक्षम हुई हैं। पहले कोई अवसर नहीं मिला, जब स्वयं सहायता समूह के माध्यम से उन्हें अवसर मिला तो आगे बढ़ने का मौका मिला तथा अब आत्मविश्वास भी बढ़ा है। समूह गठन से समाज में एकता और समरसता का भाव भी पैदा होता है। राज्यपाल ने महिलाओं से कहा कि आप लोग ऐसा कोई कार्य न करें, जिससे आपको किसी शर्मिन्दगी का सामना या अपनों से दूर रहना पड़े। उन्होंने कहा कि महिलाएं संकल्प लें एवं समाज में ऐसी चेतना जाग्रत करें कि लोग अपनी बेटियों को अधिक से अधिक अच्छी शिक्षा दिलायें तथा दहेज जैसी कुरीति को समाप्त किया जाय। आपस में बैठकर इन समस्याओं पर चर्चा करें, जिससे लोगों में इनके प्रति भय पैदा हो और कुरीतियों पर अंकुश लग सके। उन्होंने कहा कि मकान और कपड़े की सफाई तो साधारण बात है, मन की सफाई करके ईष्र्या-द्वेष समाप्त करें, जिससे समाज में सकारात्मक वातावरण बनें और लोगों में बदलाव आये। उन्होंने कहा कि अपने कार्य के साथ-साथ बच्चों के व्यवहार पर भी ध्यान दें, जिससे वे सही रास्ते पर चलकर आगे बढ़ सकें। 

राज्यपाल ने कृषकों से जैविक खेती को अपनाने पर बल दिया। कृषि क्षेत्र में भी महिलाओं को जोड़ने की अपेक्षा की, जिससे वह भी अपना सहयोग देकर जीवन स्तर को ऊपर उठा सकें और बराबर की हकदार बन सकें। राज्यपाल ने सर्किट हाउस में कृषकों के साथ बैठक के दौरान कृषकों से कृषि क्षेत्र में और अधिक उत्पादन बढ़ाने और उत्पादन लागत कम करने के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त करते हुए कहा कि जब कृषि लागत कम होगी तो आमदनी भी बढ़ेगी। उन्होंने कृषकों से जैविक खेती अपनाने पर बल देते हुए कहा कि अधिक उर्वरक के प्रयोग से आज के समय में कई प्रकार की बीमारियों का बढ़ना शुरू हुआ है, जो समाज के लिये कलंक है। इससे छुटकारा पाने के लिये जैविक खेती को बढावा दिया जाय। उन्होंने कहा कि यह गर्व की बात है कि आज किसान, किसान को सीखने का अवसर दे रहे हैं और वह आगे बढ़ रहें हैं। उन्होंने कहा कि सरकार ने कृषकों को मण्डी से निजात दिलायी है, अब किसान अपनी फसल को अपनी इच्छानुसार जहां चाहे वहां अधिक से अधिक दाम पर बेंच सकतें हैं। सरकार किसान हित में तरह-तरह की योजनायें संचालित कर रही है। जिसके अन्तर्गत अनुदान पर कृषि यंत्र, बीज तथा फसल बीमा आदि की योजना भी प्रारम्भ की गई है। 



टी0बी0 को समाप्त करने के लिये जन आन्दोलन का रूप दिया जाय--चिकित्सकों ने इस आपदा में जो कार्य किया है, वह सराहनीय है--सकारात्मक सोच के साथ साहसिक कार्य किये जाएं तो उसके अच्छे परिणाम मिलेंगे - श्रीमती आनंदीबेन पटेल

-----


लखनऊः 15 जनवरी, 2021

उत्तर प्रदेश की राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने आज जनपद आगरा में चिकित्सकों के साथ बैठक के दौरान टी0बी0 रोग के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त करते हुए कहा कि टी0बी0 को समाप्त करने के लिये कार्यक्रम को जन आन्दोलन का रूप दिया जाय, जिससे इसे पूर्णतः समाप्त किया जा सके। उन्होंने इस कार्य में आशा, आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को प्रशिक्षित करने पर बल दिया, जिससे वह घर की महिलाओं के बीच जाकर जांच आदि अच्छे से कर सकेंगी और कुपोषित बच्चों व महिलाओं की भी जानकारी हो सकेगी। जब कुपोषण से मुक्ति मिलेगी तो टी0बी0 जैसे रोग की भी सम्भावना कम हो सकेगी और माताओं बच्चों को बचाया जा सकेगा। उन्होंने इस कार्य में समूह की महिलाओं को भी जोड़ने पर बल दिया। उन्होंने समूह की महिलाओं के ग्रुप बनवाकर कैंसर की जांच कराने को भी कहा। 

राज्यपाल ने चिकित्सकों से कहा कि आप सब लोगों ने मिलकर इस आपदा में जो कार्य किया है, वह सराहनीय है। सामूहिक कार्य से सफलता अवश्य मिलती है। इसी का परिणाम है कि आज 130 करोड़ की आबादी होने के बाद भी देश में अन्य देशों जैसी समस्या नहीं हुई है, जिनकी आबादी बहुत ही कम है। उन्होंने कहा कि आपसी सहयोग हमारे संस्कारों में बसा हुआ है। उन्होंने कहा कि आज विश्व में आगरा का नाम छाया हुआ है। आगरा को जूता और मार्बल से ख्याति मिली है। उन्होंने कहा कि सकारात्मक सोच के साथ साहसिक कार्य किये जाय तो उसके अच्छे परिणाम मिलेंगे। 

बैठक में जिलाधिकारी श्री प्रभु एन0 सिंह ने बताया कि जिन बच्चों को गोद लिया गया था, उनकी लगातार निगरानी की जा रही है और कोविड के समय भी टी0बी0 के मरीजों पर लगातार ध्यान रखा गया। 

राज्यपाल ने जनपद आगरा के कोरोना वारियर्स (चिकित्सक) को प्रमाण-पत्र देकर किया सम्मानित किया और उनकी सराहना भी की।

-----

Popular posts from this blog

अपनी निडरता और क्षत्रिय वंश के कारण की यदुवंशीयों का नाम 'अहीर' यादव.

उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के नियमित, संविदा, और सेवा प्रदाताओं के कर्मचारियों सहित सभी 60 हजार कर्मचारियों को अप्रैल माह का पूर्ण वेतन और मानदेय दिया जाएगा:::~~डॉ राजशेखर प्रबन्ध निदेशक

ब्रेकिंग न्यूज़:यूपीएसआरटीसी के अधिकारियों और कर्मचारियों ने सुरक्षा बलों हेतु "सुरक्षा उपकरण किट" (1000 फेस मास्क, 1000 दस्ताने और 1000 हैंड सैनिटाइज़र) दान दिये:::---