:ब्रेकिंग:--👉👉उत्तर प्रदेश राजर्षि टण्डन मुक्त विश्वविद्यालय का 15वां दीक्षान्त सम्पन्न::==पढे विस्तार से खबर

विद्यार्थी देश और समाज की सेवा का संकल्प लें--वर्तमान युग दूरस्थ शिक्षा का है. कोविड काल में दूरस्थ शिक्षा की प्रासंगिकता और भी बढ़ गई-

राज्यपाल ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय, प्रयागराज के नवनिर्मित विजयनगरम् हाल का उद्घाटन किया


प्राथमिक विद्यालय एवं आंगनबाड़ीकेन्द्र का निरीक्षण राज्यपाल ने गर्भवती महिलाओं को पोषण किट वितरित किया--काॅलेजों एवं इंस्टीट्यूट आंगनबाड़ी केन्द्रों को गोद लें  

लखनऊः 4 मार्च, 2021

आज उपाधि प्राप्त विद्यार्थियों के जीवन का एक चरण पूरा हो गया है, परन्तु व्यवहारिक जीवन की चुनौतियां को दृष्टिगत रखते हुए वे जातिगत, सम्प्रदायगत, भाषाई और अन्य प्रकार के भेदभावों से ऊपर उठकर एक आदर्श भारतीय नागरिक के रूप में देश और समाज की सेवा का संकल्प लें और देश की समृद्ध सांस्कृतिक परंपरा की गौरव-गरिमा के पीढ़ी दर पीढ़ी हस्तांरतण में सुयोग्य भूमिका का निर्वहन करें। यह विचार उत्तर प्रदेश की राज्यपाल एवं कुलाधिपति श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने आज उत्तर प्रदेश राजर्षि टण्डन मुक्त विश्वविद्यालय प्रयागराज के 15वें दीक्षान्त समारोह को सम्बोधित करते हुए व्यक्त किये।

राज्यपाल ने कहा कि राष्ट्र तथा समाज के लक्ष्यों की प्राप्ति का सबसे महत्वपूर्ण साधन शिक्षा है। शिक्षा के माध्यम से समाज में बदलाव लाया जा सकता है। शिक्षा के साथ-साथ बच्चों का स्वास्थ्य एवं पोषण भी आवश्यक है, इसके लिए परिवार एवं शिक्षकों की भूमिका बढ़ जाती है। उन्होंने कहा कि कोई भी बच्चा स्कूल जाने से वंचित नहीं होना चाहिए। अध्यापक गांव में जाकर अभिभावकों को बच्चों को स्कूल भेजने के लिए प्रेरित करें। आंगनबाड़ी में पढ़ने वाले बच्चों एवं वहां की व्यवस्थाओं पर चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि आंगनबाड़ी केन्द्रों में मुख्यतः गरीब परिवार के बच्चे पढ़ते है। विश्वविद्यालयों एवं कालेजों तथा अन्य संस्थाओं को आंगनबाड़ी केन्द्रों को गोद लेने के लिए आगे बढ़कर कार्य करना चाहिए।

श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने कहा कि कहा कि दहेज जैसी कुप्रथा को समाप्त करने के लिए भी सभी लोगो को आगे बढ़कर कार्य करना चाहिए तथा दहेज के कारण समाज में होने वाली घटनाओं तथा उसके परिणामों के बारे में लोगो को जागरूक करना चाहिए। उन्होंने कहा कि उच्च शिक्षा के 50 प्रतिशत शैक्षिक सूचकांक को प्राप्त करना है तो प्राथमिक शिक्षा का स्तर उठाने के साथ ही साथ नामांकन अनुपात को भी बढ़ाना होगा। इसके लिए उन्होंने 5 वर्ष तक की आयु के सभी बच्चों को प्राथमिक शिक्षा से जोड़ने का आह्वाहन किया। राज्यपाल ने बच्चो को स्कूल जाने हेतु प्रेरित करने के लिए छोटे स्कूली बच्चों को बैग एवं पुस्तकों का वितरण अपने हाथ से किया।

श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने कहा कि वर्तमान युग दूरस्थ शिक्षा का है और इसका क्षेत्र अत्यन्त व्यापक है। औपचारिक शिक्षा की तुलना में यह ज्यादा व्यावहारिक, महत्वपूर्ण तथा सार्थक होती जा रही है। कोविड काल में इसकी प्रासंगिकता और भी बढ़ गई है। विश्वविद्यालय द्वारा तैयार की गई स्व-अध्ययन सामग्री को वेबसाइट पर उपलब्ध कराए जाने से ई-लर्निंग का वातावरण निर्मित हुआ है। उन्होंने कहा कि ‘प्रभावी शिक्षा’ एवं ‘शिक्षा शिक्षार्थी के द्वार तक’ को ध्यान में रखते हुए विश्वविद्यालय ने अपने प्राध्यापकों के व्याख्यानों को यू-ट्यूब पर अपलोड कराकर सराहनीय प्रयास किया है। इसके साथ ही छात्रों की सुविधाओं को ध्यान में रखकर ‘वर्ष पर्यन्त प्रवेश’ की ऑनलाइन व्यवस्था सुनिश्चित की गई है।

15वें दीक्षान्त समारोह में विभिन्न विद्या शाखाओं में सर्वाधिक अंक प्राप्त करने वाले शिक्षार्थियों को 19 स्वर्ण पदक प्रदान किये गए, जिनमें 05 स्वर्ण पदक छात्रों तथा 14 स्वर्णपदक छात्राओं की झोली में आए। दीक्षान्त समारोह में सत्र दिसम्बर 2019 तथा जून 2020 की परीक्षा के सापेक्ष उत्तीर्ण लगभग 28659 हजार शिक्षार्थियों को उपाधि प्रदान की गई, जिसमें 15492 पुरूष तथा 13167 महिला शिक्षार्थी रहे। इस अवसर पर राज्यपाल ने बच्चो को स्कूल जाने हेतु प्रेरित करने के लिए बैग एवं पुस्तकों का वितरण अपने हाथ से किया।

इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में श्री मुकुल कानितकर, विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 कामेश्वर नाथ सिंह सहित अन्य गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

इसके बाद एक अन्य कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश की राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय, प्रयागराज के नवनिर्मित विजयनगरम् हाल का उद्घाटन भी किया।

लखनऊः 4 मार्च, 2021

उत्तर प्रदेश की राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने आज प्रयागराज के कटरा स्थित बख्तियारी प्राथमिक विद्यालय के प्रांगण में स्थित आंगनबाड़ी केन्द्र में डाॅ0 ए0पी0जे0 अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय एवं जिला प्रशासन के संयुक्त तत्वावधान में आंगनबाड़ी केन्द्रों को सुविधा सम्पन्न करने हेतु आयोजित कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। राज्यपाल द्वारा आंगनबाड़ी केन्द्र से सम्बंधित आवश्यक वस्तुओं का वितरण किया गया।

राज्यपाल ने गर्भवती महिलाओं की गोद भराई कराई और उन्हें अच्छे से खानपान, सरकारी अस्पताल में ही डिलीवरी कराने, स्वच्छता का विशेष ख्याल रखने आदि की सीख दी तथा गर्भवती महिलाओं को पोषण किट का वितरण किया। इसके अलावा अलिस्फा फातिमा का अन्नप्राशन कराया। उन्होंने कहा कि आंगनबाड़ी केन्द्रों पर 03 से 06 साल के बच्चें आते है, इसलिए इन केन्द्रों पर बच्चों के खेलने के लिए खिलौने एवं उनकी उपयोग की वस्तुएं होनी चाहिए, जिससे कि बच्चों का मन भी लगे और उनकी देखभाल के साथ-साथ उनको उचित पोषण भी मिलना चाहिए। उन्होंने प्रयागराज के विभिन्न काॅलेजों एवं इंस्टीट्यूट से आंगनबाड़ी केन्द्रों को गोद लेने का आह्वाहन किया। उन्होंने लोगो से अपील की कि गोद लिए हुए केन्द्रों पर किन वस्तुओं की आवश्यकता है, उन वस्तुओं को उपलब्ध कराने का प्रयास करें।

राज्यपाल ने कहा कि आंगनबाड़ी केन्द्रों पर कार्यरत वर्कर एवं हेल्पर को टेªनिंग दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि जब अधिकारी भी सेवाभाव से जुड़ेंगे तभी व्यवस्था अच्छी चलेगी और सुविधायें उपर से नीचे तक पहुंच पायेंगी। इसके लिए उन्होंने टीम भावना से काम करने का आह्वाहन किया।

इस अवसर पर जिलाधिकारी श्री भानु चन्द्र गोस्वामी सहित अन्य सम्बंधित अधिकारीगण उपस्थित रहे।

--

Popular posts from this blog

उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के नियमित, संविदा, और सेवा प्रदाताओं के कर्मचारियों सहित सभी 60 हजार कर्मचारियों को अप्रैल माह का पूर्ण वेतन और मानदेय दिया जाएगा:::~~डॉ राजशेखर प्रबन्ध निदेशक

अपनी निडरता और क्षत्रिय वंश के कारण की यदुवंशीयों का नाम 'अहीर' यादव.