👉👉 दांत और मुंह की लापरवाही कैंसर को न्यौता::==बीएमएम सिंह(दन्त स्वास्थ विज्ञानी)


क्या आप दांत और मुंह पे ध्यान नहीं देते हैं और इनसे जुड़ी छोटी-मोटी समस्याओं को हलके में लेते हैं तो जान लीजिये आपकी ये अनदेखी कैंसर जैसी बड़ी बीमारियों का कारण भी बन सकती हैं
विशेषज्ञों की मानें तो गंभीर बीमारियों के साथ साथ व्यक्ति को जान से हाथ तक धोना पड़ सकता है। ध्यान देने वाली बात ये है की मुहं-दांत से जुड़ी बीमारियों से लड़ने में काफी लम्बा खर्च आता है जो की अक्सर विभिन्न बीमा कंपनियों की बीमा योजना में शामिल नहीं होता।
नई दिल्ली 17 मार्च 2021 

देश की राजधानी दिल्ली के मोतीनगर स्थित आचार्य श्री भिक्षुक सरकारी अस्पताल 20 मार्च को मनाये जाने वाले 'वर्ल्ड ओरल हेल्थ डे' पर दन्त विभाग के स्वास्थ विज्ञानी बीएमएम सिंह ने बताया  कैंसर के आलावा ऐसी अनदेखी बीमारियाँ जैसे दांतों में पायरिया, सूजन, बदबूदार सांस तथा मसूड़े में मवाद तक बना सकती है।

बीएमएम सिंह ने लोगों से समय रहते अपने मुंह और दांतों से जुड़ी समस्याओं पर ध्यान देने का आग्रह किया है। विशेषज्ञ ने अपने सालों का अनुभव साझा करते हुए बताया की बीमारी गंभीर होने से कभी कभी व्यक्ति को अपनी जान तक खोनी पड़ती है और इन बीमारियों का खर्चा भी लम्बा होता है। 

श्री सिंह ने बताया "व्यक्ति को हर 6 महीने पर किसी भी नज़दीकी अस्पताल में दांत और मुंह की जांच कराना चाहिए। इस से यदि कोई बीमारी बन भी रही होगी तो समय रहते पता चल जाएगा।

 आचार्य श्री भिक्षुक अस्पताल के दंत विभाग की प्रमुख शालिनी बंसल ने कहा दांत और मुंह की रूटीन जांच से वित्तीय संकट से बचा सकता है। बंसल ने कहा कभी कभी बीमारियों से लड़ने में व्यक्ति के लाखों रुपये लग जाते हैं और पैसे न होने की स्तिथि में उसे क़र्ज़ लेना पड़ता है। 

उन्होंने कहा की लोगों को बहुत सचेत रहने की जरूरत है क्योंकि मुंह दांत से जुड़ी बीमारी का खर्च अक्सर बीमा कंपनियों नहीं देती। ये उनके प्लान में शामिल नहीं होता। इन सब बीमारियों से बचने के लिए विशेषज्ञों ने लोगों को दिन में दो बार ब्रश करने की सलाह दी है और हर 6 महीने नजदीकी स्वास्थ्य केंद्रों में नियमित जांच करवाने को आग्रह किया है। यदि किसी व्यक्ति को बाज़ार में बिकने वाले ब्रश और टूथपेस्ट मेहेंगे लगते है तोह वह देसी नुस्खे भी अपना सकते है।

 शालिनी ने कहा नमक, तेल और हल्दी को एक साथ मिलाकर दांतों पे घिसने से दांत साफ़, सफ़ेद, चमकीले और मज़बूत बनते है। जो लोग पान मसाला इत्यादि जैसी चीजों के आदी हो चुकें हैं वह लौंग, इलाइची जैसी चीजों का सेवन करें। ऐसा करने से उनको अपने लगातार पान मसाला सेवन करने की बुरी आदत को कम करने में मदद मिलेगी। 

उन्होंने कहा कि इलाज से बेहतर रोकथाम है और लोग इस बात को जितनी जल्दी समझ लें उनके लिए उतना अच्छा होगा। 

 


Popular posts from this blog

उत्तर प्रदेश परिवहन निगम के नियमित, संविदा, और सेवा प्रदाताओं के कर्मचारियों सहित सभी 60 हजार कर्मचारियों को अप्रैल माह का पूर्ण वेतन और मानदेय दिया जाएगा:::~~डॉ राजशेखर प्रबन्ध निदेशक

अपनी निडरता और क्षत्रिय वंश के कारण की यदुवंशीयों का नाम 'अहीर' यादव.