ब्रेकिंग::--👉👉राज्यपाल, मुख्यमंत्री ने गुरु पूर्णिमा पर प्रदेशवासियों को हार्दिक बधाई दीं::===पढें विस्तार से खबर

राज्यपाल ने कोरोना संक्रमण के दृष्टिगत  गुरु पूर्णिमा का पर्व कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए  मनाये जाने की अपील कीयह पर्व हमें सत्मार्ग पर ले जाने वाले महापुरुषों के प्रति सम्मान और कृतज्ञता अर्पित करने की प्रेरणा देता है

शास्त्रों के अनुसार गुरु पूर्णिमा पर महर्षि वेदव्यास का जन्म हुआ था, इसलिए गुरु पूर्णिमा को व्यास पूर्णिमा भी कहा जाता

मुख्यमंत्री ने कोरोना संक्रमण के दृष्टिगत जनता से गुरु पूर्णिमा का पर्व कोविड प्रोटोकॉल का पूर्ण पालन करते हुए ही मनाये जाने की अपील की

लखनऊ: 23 जुलाई, 2021

    उत्तर प्रदेश की राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने गुरु पूर्णिमा पर प्रदेशवासियों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं दी हैं।

    आज यहां जारी एक शुभकामना सन्देश में राज्यपाल जी ने कहा कि सनातन संस्कृति में गुरु पूर्णिमा  व गुरु-पूजन का पर्व  विशेष महत्व है।  ज्ञान प्राप्ति के लिए गुरु-शिष्य की  परम्परा अति प्राचीन है।  गुरु के आशीर्वाद से ही ज्ञान के साथ साथ सभी सिद्धियां प्राप्त की जा सकती हैं। 

     राज्यपाल जी ने कहा कि भारतीय संस्कृति में गुरु का सर्वोच्च स्थान  है। वह साक्षात महेश्वर है। हमें  श्रद्धाभाव से  उनका आशीर्वाद लेना चाहिए।

        राज्यपाल जी ने कोरोना संक्रमण के दृष्टिगत  गुरु पूर्णिमा  पर्व को कोविड प्रोटोकॉल के साथ  ही मनाये जाने की  जन सामान्य सेअपील की है। 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने गुरु पूर्णिमा पर प्रदेशवासियों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं दी हैं।

आज यहां जारी एक शुभकामना सन्देश में मुख्यमंत्री जी ने कहा कि गुरु पूर्णिमा गुरु-पूजन का पर्व है। सनातन संस्कृति में ज्ञान प्राप्ति के लिए गुरु-शिष्य की सुदीर्घ परम्परा है। बिना गुरु के ज्ञान प्राप्त करना सम्भव नहीं है। गुरु के आशीर्वाद से सभी सिद्धियां प्राप्त की जा सकती हैं। शास्त्रों के अनुसार गुरु पूर्णिमा पर महर्षि वेदव्यास का जन्म हुआ था। इसलिए गुरु पूर्णिमा को व्यास पूर्णिमा भी कहा जाता है। 

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि हमारी संस्कृति में गुरु को सर्वोच्च स्थान प्रदान किया गया है। गुरु को ब्रह्मा, विष्णु, महेश के समान बताया गया है। गुरु शिष्य को रचता है, इसलिए वह ब्रह्मा है। गुरु, शिष्य की रक्षा करता है, इसलिए वह विष्णु है। गुरु शिष्य के सभी दोषों का संहार करता है, इसलिए वह साक्षात महेश्वर है। हमें गुरु-पूजन पूरी आस्था और श्रद्धाभाव से करके उनका आशीर्वाद लेना चाहिए।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि जीवन में गुरु के महत्व से भावी पीढ़ी को परिचित कराने के लिए यह पर्व आदर्श है। गुरु-पूजन का यह पर्व हमें सत्मार्ग पर ले जाने वाले उन महापुरुषों के प्रति सम्मान और कृतज्ञता अर्पित करने की प्रेरणा देता है, जिन्होंने अपने ज्ञान, त्याग और तपस्या से समाज, राष्ट्र और विश्व को नई राह दिखाई।

मुख्यमंत्री जी ने कोरोना संक्रमण के दृष्टिगत जनता से गुरु पूर्णिमा का पर्व कोविड प्रोटोकॉल का पूर्ण पालन करते हुए ही मनाये जाने की अपील की है। 


Popular posts from this blog

लखनऊ में अजीब मामला ::--👉*व्यापारी के बेटे ने 7 लाख खर्च कर थाइलैंड से बुलाया कालगर्ल, कालगर्ल निकली कोरोना पॉजिटिव, लोहिया अस्पताल में इलाज के दौरान कालगर्ल की मौत*::==पढें विस्तार से खबर -

ब्रेकिंग न्यूज:--👉👉यूपी- चित्रकूट जेल में कैदियों में भिड़ंत, फायरिंग, बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के खास मेराज सहित कई की मौत की सूचना,दर्जनों राउंड गोलियां चली ,पूरा प्रशासन जेल के अंदर::==पढें पूरी खबर कब क्या हुआ

अपनी निडरता और क्षत्रिय वंश के कारण की यदुवंशीयों का नाम 'अहीर' यादव.